Whats app OTP scam.

इंस्टेंट मैसेजिंग में WhatsApp का जबाब नहीं | WhatsApp भारत का ही नहीं बल्कि दुनिया का सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाले इंस्टेंट मैसेजिंग प्लेटफॉर्म में से एक है । पूरी दुनिया में WhatsApp यूजर्स ने दो बिलियन (2अरब) का आकड़ा पार कर लिया है हैं। जबकि भारत में उपयोगकर्ताओं की संख्या जुलाई2019, तक 400 मिलियन (40 करोड़) पहुंच गई थी|

WhatsApp की सबसे अधिक यूजर्स संख्या के कारण यह हैकर्स (जालसाज) के लिए एक बड़ी सम्भावना वाला क्षेत्र बना गया है और यही वजह है कि अब हैकर्स (जालसाज) की नजर WhatsApp यूजर्स को निशाना बनाने पर है।

हैकर्स (जालसाज) ने इसके लिए एक नया तरीका भी खोज लिया है। यूजर्स को OTP Scam के जरिए शिकार बनाया जा रहा है। आपकी जरा सी गलती पर जालसाजों को आपके WhatsApp अकाउंट का एक्सेस मिल जाएगा। ऐसे में यह जरुरी है कि आप WhatsApp ओटीपी (OTP) स्कैम को समझें और बचन के उपाय जान लें। 

क्या है  व्हाट्सएप्प ओटीपी स्कैम. WhatsApp OTP Scam?

आमतौर साइबर एक्सपर्ट की माने तो WhatsApp को सीधे तौर पर हैक करना संभव नहीं है क्यूंकि इसमें सभी चैट मेसेज इन्क्रिप्त (Encrypt) होते है, परन्तु हैकर्स (जालसाज) अन्य सोशल साइट्स से आपकी जानकारी चुराकर वे आपके दोस्त या रिश्तेदार बनकर SMS, Facebook मैसेंजर, website link या किसी और तरीके से संपर्क करते हैं और इस तरीके से वे WhatsApp यूजर्स को शिकार बनाते है|

इसे भी पढ़े : साइबर अपराधी हो गए एक्टिव.Whats App से की ठगी

वे आपसे आपके दोस्त या रिश्तेदार बनकर कहेंगे कि उनका WhatsApp अकाउंट गलती से लॉगआउट हो गया है और उन्हें आपकी मदद चाहिए। वे दावा करेंगे कि अकाउंट लॉगआउट हो जाने की वजह से उन्हें ओटीपी (OTP) (OTP) नहीं मिल पा रहा और वे अपनी जगह आपके नंबर पर ओटीपी (OTP) भेज रहे हैं। आपके नंबर पर WhatsApp की तरफ से एक ओटीपी (OTP) आता है और जैसे ही आप हैकर को कोड बताते हैं, आपका अकाउंट लॉगआउट हो जाता है। ओटीपी (OTP) देने का मतलब है कि अब हैकर को आपके अकाउंट का एक्सेस मिल गया है। 

स्कैमर किस तरह से काम करता है? How does Scammer work?

दरअसल, यूजर्स जब भी किसी नए स्मार्टफोन पर अपना WhatsApp अकाउंट चलाना चाहते हैं तो उन्हें OTP कन्फर्मेशन प्रोसेस से गुजरना होता है। इसके लिए नए डिवाइस में एप ओपन करके अपना रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर डालना पड़ता है। जिससे WhatsApp की ओर से उसी नंबर पर एक OTP जाता है, जिसे सही OTP डालने पर नए फोन में पुराना WhatsApp अकाउंट शुरू हो जाता है। इसी प्रक्रिया का फायदा हैकर्स (जालसाज) उठाते हैं और किसी नए फोन में आपका मोबाइल नंबर डालकर आपसे ओटीपी (OTP) पूछ लेते हैं। सही ओटीपी (OTP) डालते ही उनके फोन पर आपका WhatsApp शुरू हो जाता है। 

ओटीपी (OTP) स्कैम से कैसे बचें [How can safe from OTP Scam?]

सबसे पहले आपको यह समझना होगा कि WhatsApp कभी पहले से एक्टिव अकाउंट पर खुद से OTP नहीं भेजता, जब तक कि आप नए फोन पर रजिस्टर्ड न कर रहे हों या अपने पुराने नंबर की जगह नया नंबर WhatsApp पर अपडेट न कर रहे हो । अगर आपकी मर्जी के बिना कभी ओटीपी (OTP) आता भी है तो इसे किसी से भी शेयर न करें। यहां तक कि अपने करीबी दोस्तों या रिश्तेदारों के साथ भी नहीं।

अगर WhatsApp ओटीपी (OTP) स्कैम का शिकार हो गए हो तो क्या करे?

कई बार बहुत सावधानी बरतने के बाद भी या अनजाने में कई लोग ओटीपी (OTP) स्कैम का शिकार हो जाते है, तो इस स्तिथि में घबराए नहीं और निचे दिए गए कुछ स्टेप्स को फॉलो करके इस समस्या से निपटा जा सकता है|

इसे भी पढ़े : साइबर ठगी से कैसे बचे? साइबर सेफ्टी के टॉप 10 टिप्स

1-अगर आप गलती से इस स्कैम का शिकार हो भी जाते हैं तो तुरंत WhatsApp पर मोबाइल नंबर डालें और नया ओटीपी (OTP) मंगाकर फिर से लॉगिन कर लें। इससे दूसरी किसी डिवाइस पर आपका अकाउंट स्वत बंद हो जाएगा।

2-WhatsApp के सेटिंग-अकाउंट आप्शन में जाकर 2 स्टेप वेरिफिकेशन को ऑन कर ले, इससे अगर कोई हैकर किसी तरह का फ्रॉड करके OTP प्राप्त करने में सफल भी हो गया तो वो WhatsApp चैट मेसेज को एक्सेस नहीं कर पायेगा|

3-प्राम्भिक सुरक्षा की दृष्टि से भारत सरकार की Cyber Crime Portal  वेब साईट पर भी एक शिकायत दर्ज करें और निकटतम पोलिश ठाणे में एक लिखित शिकायत दर्ज करवाए |

4-जितनी जल्दी हो सके अपने सभी मित्रों और जान पहचान वालो (फ़ोन के सभी कांटेक्ट नंबर्स) को इसकी जानकारी दे दे ताकि आपके नाम का गलत इस्तेमाल करके कोई ओर फ्रॉड का शिकार न हो|

जानकारी से आप संतुस्ट है या नहीं ? हमे कमेंट्स के अपने विचार अवश्य बताये .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here