फरवरी 2020, फेसबुक के स्वामित्व वाले इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप व्हाट्सएप Whatsapp ने जानकारी दी कि पूरी दुनिया में उसके उपयोगकर्ता ने दो बिलियन (2अरब) का आकड़ा पार कर लिया है हैं। जबकि भारत में उपयोगकर्ता संख्या की पिछले साल जुलाई में 400 मिलियन (40 करोड़) पहुंच गई थी,  पूरी दुनिया में  भारत व्हाट्सएप का सबसे बड़ा बाजार है और इस हिसाब से देखा जाये तो इंस्टेंट मैसेजिंग मार्किट में टॉप पर है|

WhatsApp और साइबर सुरक्षा की चुनौतियाँ [WhatsApp and cybersecurity challenges]-

Kantar की एक रिपोर्ट के मुताबिक, कोरोनोवायरस महामारी के परिणाम स्वरूप लॉकडाउन ने व्हाट्सएप के उपयोग को 40 फीसदी तक बढ़ा दिया है। जबकि यह पहले से ही दुनिया भर में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाले इंस्टेंट मैसेजिंग प्लेटफॉर्म में से एक है। इसलिए यह अब हैकर्स के लिए एक बहुत बड़ा क्षेत्र बना गया है।

Whats App स्कैम की शुरुआत –

पहला WhatsApp कब और कहाँ हुआ इसकी कोई पक्की जानकारी तो नहीं पर सन 2017-18 में “Adidas free shoes” वाले whatsapp मेसेज के बारे में तो सुना ही होगा जिसमे whatsapp पर एक लिंक आती है और उसमे कहा जाता है की Addidas के जुते जितने के लिए या फ्री पाने के लिए लिंक पर क्लिक करिए, लिंक ओपन होने के बाद और आर्डर कन्फर्म होने से पहले एक मेसेज डिस्प्ले होता है की “इस लिंक को अपने फ्रेंड लिस्ट में 10 लोगो को शेयर करो|” या इससे मिलते-जुलते मेसेज आप सभी को कभी ना कभी जरुरु आये होगे|

भारत और अन्य एशियाई देशों में त्यौहार के मौसम में बधाई सन्देश देने के लिए भी इसी तरह के लिंक whatsapp में सेंड और फॉरवर्ड किये जाते है | कुछ समय पहले तक तो भारत में डिजिटल पेमेंट को लेकर लोग इतने सजग नहीं थे बैंकिंग या खरीदारी में केस या चेक का उपयोग ही करते थे तो ऐसे स्कैम का कोई भी मामला रिपोर्ट नहीं हुआ परन्तु अब जब लगभग 40% (2019-Q2 के अनुसार) डिजिटल पेमेंट उपभोक्ता हो गए है तो ऐसे में साइबर स्कैम, फ्रॉड के केस भी बढ़ना स्वभाविक है| 

डिजिटल पेमेंट और भारत [Digital payment and its impact in India]

“जुलाई 2015 में भारत सरकार द्वारा “डिजिटल इंडिया” और नवम्बर 2016 में डी-मोनिटाईजेसन के बाद से भारत में  इ-पेमेंट/डिजिटल पेमेंट का चल बढ गया है Statista की रिपोर्ट के अनुसार वर्तमान में mobile POS payment rate 15.7% और Digital Commerce rate 42.7% तक पहुँच गया है जो 2024 तक क्रमशः 25.1% और 64.9% तक होने की उम्मीद है|”

Whatsapp और अन्य साइबर स्कैम से कैसे बचा जाये [How to protect WhatsApp from cyber scam] –

  1. Whatsapp पर शेयर किसी भी अंजन URL लिंक को ना ही ओपन करे और ना ही किसी को फॉरवर्ड करे|
  2. किसी भी प्रकार के लुभावने मेसेज, प्रलोभन, गिफ्ट, जीतो कांटेस्ट या डिस्काउंट के लालच में न आये|
  3. किस अपने प्रियजन को शुभकामनायें या बधाई सन्देश देने के लिए किसी भी प्रकार की URL लिंक या इसके साथ सम्बद्ध पिक्चर, विडियो या वेबसाइट की लिंक कभी ना शेयर करें|
  4. किसी भी प्रकार के बैंकिंग डिटेल्स, OTP या उससे सम्बंधित जानकारी whatsapp पर शेयर न करें|
  5. Whatsapp के आलावा mobile के मेसेज बॉक्स और अन्य कम्युनिकेशन एप्प पर भी इन्ही सावधानियों का ध्यान रखना चाहिए|
  6. अगर mobile से इन्टरनेट बैंकिंग या एप्प के द्वरा बैंकिंग करते है तो आपकी डिवाइस में Game और अन्य अनावश्यक एप्प इनस्टॉल ना करें| क्यूंकि गेमिंग एप्प वायरस का सबसे बड़ा सोर्से है|
  7. Mobile डिवाइस में पुरे समय इन्टरनेट चालू ना रखे जब आवश्यकता हो तब ही इन्टरनेट चालू करे| क्यूंकि 98% मामलो में इटरनेट चालू रहने पर ही साइबर क्राइम को अंजाम दिया जाता है| 
  8. समय-समय पर अपने mobile के ब्राउज़र की हिस्ट्री,कूकीज और कैश फाइल को क्लीन करते रहे ज्यादातर मामले में इन्ही के द्वारा data चोरी होने की सम्भावना ज्यादा होती है|
  9. डिवाइस इनस्टॉल whatsapp, ईमेल और बैंकिंग एप्प को 2-way वेरिफिकेशन कोड लगा कर रखे डिवाइस हैक होने की स्तिथि में भी हैकर इनको एक्सेस नहीं कर पाएंगे|
  10. और सबसे अंतिम और महत्वपूर्ण बात- एंड्राइड डिवाइस साइबर सिक्यूरिटी की दृष्टि से बहुत ही संवेदनशील होती है इसे आसानी से सिर्फ 2-4 मिनिट में हैक किया जा सकता है इसलिए किसी भी व्यक्ति को अपना mobile उपयोग करने को नहीं दे|

आशा करते है इस जागरूकता द्वारा आप स्वयं को और अपने प्रियजनों को साइबर स्कैम, फ्रॉड से बचा पाएंगे|

आपके सुझाब कमेंट के माध्यम से हमारे साथ शेयर करे|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here