10 मुख्य साइबर सेफ्टी के रूल्स और तरीके जो युवाओं, शिक्षकों और परिवार के सदस्यों को पता होने चाहिए|

इन्टरनेट पर सर्फिंग करना, सोशल मिडिया से हर पल कनेक्ट रहना, इन्स्टाग्राम पर फोटो अपलोड करना किसे अच्छा नहीं लगता? पुरे समय हम WhatsApp, Facebook, Instagram, snapchat और भी कई माध्यमो से हम अपनी फैमिली, फ्रेंड्स, कॉलीग्स, एम्प्लोई से जुड़े रहते है| और इन सभी से जो हमें कनेक्ट करता है वो है “इन्टरनेट”| चाहे उपयोग हो या ना हो हमारे कंप्यूटर,मोबाइल इन्टरनेट के द्वारा हमेशा ऑनलाइन होते है | 

सिक्के के दो पहलू की तरह जंहा इन्टरनेट के होने के कई फायदे है तो दूसरी ओर उसके हानिकारक प्रभाव  से भी इंकार नहीं किया जा सकता है | इन्टरनेट के बढ़ते उपयोग ने कई कामो को आसान तो किया ही है पर इसके असुरक्षित उपयोग से आप किसी बढ़ी समस्या के शिकार भी हो सकते है | ऑनलाइन फ्रॉड, पर्सनल डाटा हैक, बैंकिंग फ्रॉड, सोशल बूलिंग आदि | साथ ही सोशल प्लेटफार्म द्वारा आजकल कई अपराधिक कामो को अंजाम दिया जा रहा है | हर समय फेसबुक पर स्टेटस शेयर करके आप अपराधियों को आप खुले आम निमंतरण दे देते है| फेसबुक से आपकी करंट लोकेशन, आपकी फैमिली, कांटेक्ट डिटेल्स आसानी से पता की जा सकती है |

साइबर क्राइम के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए इसके सुरक्षित उपयोग की सलाह दी जाती है, क्यूंकि इन  मामलों में “सुरक्षा ही बचाब है|”    

यंहा साइबर सेफ्टी को अपनाकर साइबर क्राइम से बचने के कुछ बेहद आसन व् सरल उपाय है जिन्हें ध्यान में रखकर  आप खुद, फ्रेंड्स, फैमिली, कॉलीग्स, एम्प्लोई और नवयुवा जनरेशन को इन खतरों से बचा सकते है

1. अनजान/अज्ञात ईमेल न खोलें (Do not open email from unknown sources)-

अनजान/अज्ञात सोर्स  से आये ईमेल को डिलीट कर दे। भले ही यह मेल आपके किसी जानकर व्यक्ति ने भेजी है यदि उस मेल में कोई अनजान एक्सटेंसन वाली फाइल अटेच है तो ऐसेअटेचमेंट को ओपन करने की कोशिश ना करे इनमे virus कंटेंट जुड़े हो सकते क्यूंकि कुछ फाइलें वायरस और उनसे जुड़े अन्य प्रोग्रामों को फैलाती हैं| एसी फाइले कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम को नष्ट कर सकती हैं। किसी भी ई-मेल को तब तक रिप्लाई न करें जब तक कि आप पूरी तरह उसमे अटेच फाइल के बारे में सुनिश्चित ना हो| किसी को भी गैर जरुरी, भडकाऊ, धमकी, एमोजी वाले या स्पैम मेल न भेजे| ईमेल करते समय हमेशा ईमेल शिष्टाचार का ध्यान रखे |

Know About:

2. सिस्टम को सिक्यूरिटी पैचेस से अपडेट रखे (Update operating system by Latest security patches )

कोई भी सॉफ्टवेर या ऑपरेटिंग सिस्टम कभी भी पूर्ण नहीं माना जाता है, Microsoft और सॉफ्टवेर बनाने वाली कई कंपनिया, सॉफ्टवेर रिलीज़ करने के बाद उनका विश्लेषण करती है और वे देखते है की उनके ऑपरेटिंग सिस्टम और एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर में सिक्यूरिटी समस्या हैं। ये कंपनियां इन सिक्यूरिटी गैप को फिक्स करने के लिए समय-समय पर सिक्यूरिटी पैच रिलीज़ करती हैं जिसे आपको इंस्टाल करते रहना चाहिए।

पायरेटेड सॉफ्टवेर को इनस्टॉल करने से हमेशा बचना चाहिए, हमेशा ओरिजनल सॉफ्टवेर का ही उपयोग करे |

3. एंटी-वायरस सॉफ्टवेयर का उपयोग करें (Use anti-virus software)-

सबसे प्रमुख ध्यान रखने वाली बात आप जो भी कंप्यूटर, मोबाइल इस्तेमाल कर रहे है उसमें एक अच्छा anti-virus प्रोग्राम होना ही चाहिए| कंप्यूटर वायरस भी एक तरह का प्रोग्राम होता है जो कंप्यूटर या मोबाइल के ऑपरेटिंग सिस्टम को संक्रमित कर सूचना को नष्ट या नष्ट कर सकता है। एक सही Anti-virus सॉफ़्टवेयर आपके कंप्यूटर को वायरस के दुषप्रभाव से बचाने के लिए विशेष तरह से डिज़ाइन किया जाता है। लेकिन रोज नए virus, malware, spyware के अटेक से सिस्टम को बचाने के लिए Anti-virus प्रोग्राम को नियमित रूप से अपडेट करना और समय-समय पर सिस्टम को full scan करते रहना चाहिए।

Virus और उनकी एक्टिविटी की जानकारी के लिए और कुछ प्रचलित anti-virus सॉफ़्टवेयर की वेब साइट पर जाकर virus के बारे में जाँच करें और उनसे सम्बंधित जानकारी प्राप्त करनी चाहिए|

4. कंप्यूटर और नेटवर्क को फायरवॉल से सुरक्षित करे (Protect computers with firewalls)-

कंप्यूटर और नेटवर्क सिक्यूरिटी के लिए फ़ायरवॉल इनस्टॉल करना एक अच्छा विचार है। फ़ायरवॉल इन्टरनेट से आने वाले ट्रैफिक को फ़िल्टर करता है जिससे अनवांटेड ट्राफिक, खतरनाक साइट्स, वायरस पैकेट्स  फ़िल्टर होकर आपके पास सिर्फ सुरक्षितब्राउज़िंग साईट ही उपलब्ध होती है और इस तरह से ये आपके कंप्यूटर पर स्टोर आपकी पर्सनल इनफार्मेशन और डाटा को प्रोटेक्ट करने में मदद करता है|

Firewall, सॉफ्टवेर और हार्डवेयर दोनों ही रूप में हो सकते है|आप अपनी आवश्यकता के अनुसार इनका सिलेक्शन कर सकते है|

वर्तमान में कई एंटीवायरस प्रोग्राम भी सॉफ्टवेर लेवल का फ़ायरवॉल सिस्टम प्रोवाइड करते है इसलिए जब भी आप एंटीवायरस खरीदने का प्लान करे तो उसमे फ़ायरवॉल फीचर को सुनिश्चित करके ही ले |

5. अनजान पेनड्राइव और मीडिया को अपने कंप्यूटर में यूज़ न करें (Do not use unknown pen drives and media in your computer.)

आपके कंप्यूटर में कोई भी अनजान Pen drive, cd इन्सर्ट न करे। इन्टरनेट के बाद सबसे ज्यादा virus एक्सटर्नल मीडिया से फैलते है ये virus कंप्यूटर को संक्रमित कर आपके कंप्यूटर की फ़ाइलों को नष्ट कर सकते है| मैलवेयर और स्पाई-वेयर कोई भी फाइल नष्ट किये बिना ही सिस्टम में पूरे समय एक्टिव रहते और जैसे ही सिस्टम इन्टरनेट से कनेक्ट होता है ये आपके सिस्टम की महत्वपूर्ण इनफार्मेशन हैकर के सर्वर पर अपलोड करना शुरू कर देते है |

6. उपयोग में नहीं होने पर इंटरनेट को डिस्कनेक्ट करें (Disconnect the internet when not in use)

इंटरनेट एक दो तरफा सड़क है। इसका असुरक्षित उपयोग आपको परेशानी में डाल सकता है | इन्टरनेट का उपयोग नहीं होने पर आप इसे डिसकनेक्ट कर सकते है । इंटरनेट बंद करने से यह सुनिश्चित हो जाता है कि इंटरनेट पर कोई दूसरा व्यक्ति आपके कंप्यूटर को ऑनलाइन एक्सेस नहीं कर सकता है और नहीं नुकसान पहुंचा सकता है। ज्यादातर साइबर क्रिमिनल, ऑनलाइन होने पर ही सिस्टम को हैक करते है |

7. लुभावने मेसेज, फ़ोन कॉल  और लिंक को अनदेखा करे (Ignore temptations of enticing messages, phone calls, and links)

बहुत से जालसाज ऑनलाइन फ्राड के लिए तरह-तरह के प्रलोभन का उपयोग करते है जैसे आपने करोडो रूपये को लाटरी जीती है , आपका नंबर लाटरी से सेलेक्ट हुआ है, क्रेडिट कार्ड लिमिट बढ़ाने, डेविट कार्ड ब्लाक हो गया है, इस लिंक पर क्लिक कर इनाम जीतो, फ्री सेल ऑफर, OLX पर खरीदन या बेचना आदि|

किसी भी स्तिथि में आपको इन प्रलोभन वाले मेसेज, फ़ोन कॉल और इन्टरनेट वेब लिंक से बचना चाहिए | ये साइबर जालसाज आपको आत्मविश्वास में लेकर आपका नुकसान कर सकते है |

यदि जाने -अनजाने आप किसी साइबर फ्रॉड के शिकार हुए है तो बिना डरे सबसे पहले भारत सरकार के पोर्टल  https://cybercrime.gov.in/Default.aspx पर शिकायत दर्ज करे| यंहा पर दर्ज शिकायतों पर तुरंत एक्शन लिया जाता है

https://cybercrime.gov.in/Default.aspx

Must Read:

8. फ्री सॉफ्टवेर, एप्स और गेम से बचे (Avoid free software, apps and games.)

आजकल आपको बहुत से यूटिलिटी सॉफ्टवेर, मोबाइल एप्स और गेम्स आसानी से इन्टरनेट पर उपलब्द्ध है| ये फ्री सॉफ्टवेर सिस्टम के बैकग्राउंड में बहुत ही कम सिस्टम रिसोर्स का उपयोग करके ऑपरेट होते रहते है और कई बार तो एंटीवायरस भी इनको पहचान नहीं पाते है परंतू ये बैकग्राउंड में ऑपरेट होकर आपके सिस्टम की कई मह्त्बपूर्ण जानकारी हासिल कर हैकर के सर्वर पर पहुचाते रहते है |

यदि आप मोबाइल से बैंकिंग करते है या इसके लिए कोई पेमेंट एप्स उपयोग करते है तो आपको और भी सतर्क रहने की आवश्यकता है| अपने मोबाइल में कोई भी अनजान एप और गेम इनस्टॉल करने से बचे |

Know About:

9. जटिल पासवर्ड का उपयोग करें (Use strong password to protect your devices)

आपको आश्चर्य होगा कि लोग अपने पासवर्ड को याद रखने के बारे में लापरवाह होते हैं और वे आसानी से याद रहने वाले पासवर्ड चुनते हैं जबकि पासवर्ड हमेशा जटिल रखना चाहिए, कभी भी किसी के नाम, मोबाइल नंबर, बिर्थडे डेट को अपना पासवर्ड नहीं बनाना चाहिए क्यूंकि ये आसानी अनुमान लगाकर क्रैक किये जाते । स्ट्रोंग पासवर्ड बनाने के लिए आप Alphanumeric  तकनीक का इस्तेमाल करना चाहिए | एक स्ट्रोंग पासवर्ड के लिए कैपिटल व् स्माल लेटर (Aa) के साथ स्पेशल कैरेक्टर (@#$) और नम्बर्स (1-9) का इस्तेमाल करना चाहिए |इन सब के साथ ही कुछ दिनों के अन्तराल पर पासवर्डबदलते रहना चाहिए|

Know About:

10. अपने कंप्यूटर का बैक-अप नियमित रूप से लें (Back-up your computer regularly)-

समय-समय पर अपने सिस्टम का full Backup लेते रहे |असुविधा से बचने के लिए उसे शेड्यूल बैकअप पर सेट कर सकते है| साथ ही बैकअप की एक कॉपी एक्सटर्नल ड्राइव में सुरक्षित रखे | बहुत संवेदनशील डाक्यूमेंट्स, फोटो, बैंक डिटेल्स और फाइल्स को कंप्यूटर पर ना रखे| आजकल सिस्टम बैकअप को सुरक्षित रखने के लिए कई कंपनिया cloud storage facility उपलब्ध कराती है, ये सब्सक्रिप्शन आधारित सेवा है जो की पूर्णत सुरक्षित और पासवर्ड इन्क्रिपटेड होती है|आप अपनी सुविधा अनुसार मासिक या वार्षिक आधार पर स्टोरेज खरीद सकते है |

Know About:

नियमित रूप से कंप्यूटर सिक्यूरिटी की जांच करने के लिए समय-समय पर  कंप्यूटर सुरक्षा का मूल्यांकन करते रहे ।

11. एक जिम्मेदार साइबर नागरिक बनें (Be a responsible cyber citizen)-

यदि आप इंटरनेट का उपयोग करते हैं, तो आप एक वैश्विक समुदाय के नागरिक हैं , एक साइबर नागरिक है। एक साइबर नागरिक होने के नाते आपकी जिम्मेदारियाँ होती हैं कि सुरक्षित रहते हुए इन्टरनेट का उपयोग करे, किसी भी व्यक्ति, समुदाय के लिए कोई आपत्ति जनक सामग्री शेयर ना करे और न ही किसी को प्रेरित करे, किसी भी संद्दिग्ध साइबर एक्टिविटी में सम्मिलित न रहे, किसी भी साइबर फ्रॉड होने की स्तिथि में साइबर सेल या साइबर पुलिस को जानकारी दे और साइबर क्राइम या फ्रॉड से सुरक्षित रहने के लिए इसके बारे में जानकारी पढते रहे सुरक्षित रहें और अच्छे नागरिक होने के नाते शिष्टाचार का उपयोग करें और कानूनों का सम्मान करें।

Important Links:

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here